Friday, October 21, 2022

गरुड़ पुराण के अनुसार कर्मों का फल | गरुण पुराण में गरीबी दूर करने का मंत्र


अपने हिंदू धर्म के 18 महा पुराणों में से एक गरुड़ पुराण का नाम तो सुना ही होगा जिसे अक्सर किसी व्यक्ति की मृत्यु के समय पढ़ा जाता है। 


गरुड़ पुराण से ही हमें ज्ञान नीति , धर्म , समुद्री शास्त्र ज्योतिष आयुर्वेद की जानकारी मिलती है। इसी गरुड़ पुराण में 7 ऐसे बातों  का उल्लेख किया गया है जिन्हें धर्म में वर्जित माना गया है और अगर आप इसे करते हैं ।

गरुड़ पुराण के अनुसार कर्मों का फल | गरुण पुराण में गरीबी दूर करने का मंत्र

तो आप से बड़ा पापी कोई नहीं हो सकता तो चलिए जानते हैं गरुड़ पुराण की वह 7 बातें क्या है ।


गरुड़ पुराण के अनुसार कर्मों का फल | गरुण पुराण में गरीबी दूर करने का मंत्र

गरुड़ पुराण के अनुसार कौन सी 7 बातें हैं । जिनका ख्याल हमें अवश्य रखना चाहिए। 


स्टेप . 1 संयम और सतर्कता 

गरुण पुराण के अनुसार में कहा गया है कि शत्रुओं से निपटने के लिए हमे सतर्कता और चतुर का सहारा लेना चाहिए क्योंकि शत्रु हमेशा हमें नुकसान पहुंचाने का प्रयास करते रहते हैं। 


ऐसे में यदि हम संयम और सतर्कता नहीं बरतेंगे । तो हम हमेशा अपने शत्रु से मात खाएंगे। 


स्टेप : 1 ज्ञान में नित्य अभियाश जरूरी है ? 

अभ्यास के बिना विद्या नष्ट हो जाती है। अर्थात यदि आपकी आज्ञा या विद्या का समय - समय पर याद नहीं करेंगे तो उसे भूल जाएंगे ।


गरुड़ पुराण में कहा गया है कि जो भी हम पढ़ते हैं । उसका हमें समय-समय पर अभ्यास करते रहना चाहिए। वह कहा भी गया है करत करत अभ्यास के जड़मति होत सुजान रसरी आवत जात ते सिल पर परत निशान । 


अर्थात रस्सी को बार बार रगड़ने से पत्थर पर निशान पड़ सकता है तो निरंतर अभ्यास करने से मूर्ख व्यक्ति बुद्धिमान बन सकता है।


स्टेप : 3  साफ एवं सुगंधित कपड़े ही पहनें ? 

यदि आप अमीर धन्यवान और सौभाग्यशाली बनना चाहते हैं तो आप साफ-सुथरे सुंदर और सुंदर सुगंधित कपड़ा ही पहने ।


गरुड़ पुराण के अनुसार उन लोगों का सौभाग्य नष्ट हो जाता है जो गंदे वस्त्र पहनते हैं और ऐसे घर पर लक्ष्मी चली जाती है जिसके कारण सौभाग्य भी चला जाता है और दरिद्रता का निवास होता है। 


स्टेप : 4 निरोगी काया 

संतुलित भोजन से ही निरोगी काया प्राप्त होती है। अतार्थ भोजन से ही सेहत प्राप्त करता है। ओर वह भोजन से ही रोगी हो जाता है। 


हमारे शरीर में आधी से ज्यादा बीमारी इसी वजह से होती है क्योंकि हम असंतुलित भोजन का सेवन करते है । जिसके कारण हमारा पाचन तंत्र ठीक से काम नहीं कर पाता। इसलिए हमें सदैव अच्छा खाना खाना चाहिए । 


स्टेप : 5 एकादशी व्रत 

एकादशी व्रत को ग्रंथो और पुराणों शार्श्वेशत  बताया गया जो व्यक्ति एकादशी का व्रत रखता है। वह सभी प्रकार के कष्टों से बचा रहता है। 


यदि व्यक्ति एकादशी का व्रत अच्छे सारः रखता है। तो उसे उसका निश्चित ही लाभ होता है 


स्टेप : 6 मंदिर और धर्म का सम्मान 

गरुड़ पुराण के अनुसार पवित्र स्थानों पर गंदे काम करने वाले अच्छे लोगों को धोखा देने वाले किसी का एहसान के बदले उन्हें गाली देने वाले और उनका दुरुपयोग करने वाले धर्म में वेद और शास्त्रों के अस्तित्व पर सवाल उठाने वाले इन लोगों को नरक में भी जगह मिलती है। 


स्टेप : 7 तुलसी का महत्व 

तुलसी के महत्व को गरुड़ पुराण के अलावा कई अन्य पुराणों में भी बताया गया है। तुलसी को घर में रखने से सभी तरह के रोग दूर रहते हैं। 


साथ ही उसे भगवान के प्रसाद में सेवन करने से सारे शारीरिक एवं मानसिक विकार दूर रहते हैं और अगर भगवान विष्णु के पूजा के साथ तुलसी की पूजा करते हैं तो आपको उसका बहुत बड़ा लाभ मिलता है। 


तो दोस्तो उम्मीद करता हूँ। कि ये जानकारी आपको अच्छा लगा होगा । तो आज के लिए इतना ही अब हम चलते हैं। फिर मिलेंगे कल नई पोस्ट के साथ तब तक हमारे ब्लॉग के अंत तक बने रहने के लिए आप सभी लोगो को दिल से धन्यवाद ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,


एक अच्छी पत्नी के क्या गुण होते हैं? । पत्नी का कर्तव्य क्या है? । पति धर्म क्या है? । गरुड़ पुराण कब पढ़ना चाहिए? । गरुड़ पुराण के अनुसार स्त्रियों को कभी 4 काम नहीं करने चाहिए । गरुड़ पुराण के अनुसार कर्मों का फल । गरुड़ पुराण के अनुसार मांस खाना पुण्य है या पाप । शास्त्रों के अनुसार पत्नी के कर्तव्य । गरुड़ पुराण के अनुसार मृत्यु के बाद । गरुड़ पुराण के अनुसार 10 लोगों के घर पर कोई भोजन नहीं करना चाहिए । गरुड़ पुराण के टोटके । गरुड़ पुराण के अनुसार सजा । गरुड़ पुराण घर में रखना चाहिए कि नहीं । गरुड़ पुराण स्त्री । पत्नी के कितने रूप होते हैं । स्त्री में कितने गुण पाए जाते हैं । पतिव्रता पत्नी । गरुण पुराण में गरीबी दूर करने का मंत्र

No comments:
Write comment