Friday, September 23, 2022

श्री मदभागवत गीता में श्री कृष्ण क्या कहते है? मदभागवत गीता सार


दोस्तो आज के इस पोस्ट में जानेगे। कीश्री मदभागवत गीता में श्री कृष्ण क्या कहते है? मदभागवत गीता सार में क्या कहते है। तो चलिए जानते है।

श्री मदभागवत गीता में श्री कृष्ण क्या कहते है? मदभागवत गीता सार


श्री मदभागवत गीता में श्री कृष्ण क्या कहते है? मदभागवत गीता सार 

               गीता का सार

क्यो निष्फल चिंता करते हौ। किससे व्यर्थ डरते हो। ? कोंन तुम्हे मार सकता है। आत्मा किसी काम मे न जन्मती है। न मरती है।


जो हुआ वो अच्छा हुआ,जो हो रहा है, वह अच्छा हो रहा है, जो होगा, वो अच्छा होगा, तुम भूत का शोक ना करो। भविष्य का डर ना करो, वर्तमान चल रहा है।


तुम्हारा क्या गया, जो तुम रोते हो? तुम क्या लाये थे, जो खो दिया, तुमने क्या वैसा किया था। जो नाश हो गया , न कुछ तुम लेके आये,  जो लिया यही से लिया। जो किया यही पर दिया। जो लिया , उस परमात्मा से लिया, 



श्री मदभागवत गीता में श्री कृष्ण क्या कहते है? मदभागवत गीता सार 

जो आज तुम्हरा है। कल किसी ओर का था। और आगे किसी ओर का होगा। तुम इसको अपना समझ कर प्रशन होते है। और यही प्रशान्त तुम्हारे दुःख का कारण है।


परिवर्तन संसार का नियम है। जिसको।तुम मृत्यु समझते हो। यही तो जीवन है। एक मिनट में तुम करोड़ो के सवामी होते हो। दूसरे ही झन्न दरिद्र बन जाते हो।


तेरा मेरा छोटा बड़ा अपना पराया मन से मिटा दो, फिर सब तुम्हारा है। तुम सबके हो। न यह शरीर तुम्हारा है। न तुम इस शरीर के हो। यह आग, मिट्टी, पानी, वायु से बनता है। इसी मब लीन हो जाता है।


फिर भी तुम्हारी आत्मा वैसे के वैसे इस्थिर है। फिर तुम क्या हो। तुम अपने आपको उसके अर्पण करो। यही सबसे उत्तम सहारा है। 


जो उसके सहारे को जानता है। वह शोक भय और चिंता से सर्वदा के लिए मुक्ति पा जाता है। जो कुछ भी करो प्रभु के अर्पण करे। ऐसा करने से सदा जीवन मुक्ति का आनंद अनुभव करेगा। तथा शरीर त्यागते ही तथ छन लीन होगा। 


तो दोस्तो क्या आप पहले इस बात को जानते थे। अगर जानते है। तो comment करके जरूर बताये। ऐसे ही अमेजिंग fects के लिए हमारे blogg के अंत तक बने रहे।

गीता के 18 अध्याय के नाम

भगवद्गीता के अनुसार वास्तविक क्या है?

गीता के अनुसार जीवन की अवधारणा

भगवत गीता के 18 नाम

गीता में क्या लिखा है

श्री कृष्ण गीता रहस्य

श्री कृष्ण गीता ज्ञान

गीता में कितने श्लोक हैं


गीता का हमारे जीवन में क्या महत्व है?

गीता का क्या सार है?

भागवत गीता क्या कहती है?

गीता कब पढ़नी चाहिए?

संपूर्ण गीता सार

गीता सार जो हुआ अच्छा हुआ

श्रीमद्भागवत गीता सार

संपूर्ण भागवत गीता सार

गीता का सार सॉन्ग

संपूर्ण गीता सार PDF

गीता सार इन हिंदी PDF

भगवत गीता का ज्ञान

भगवद गीता अध्याय

गीता उपदेश

गीता सार हिंदी में download

गीता ज्ञान


भागवत गीता पढ़ने से क्या होता है?

गीता के अनुसार पाप क्या है?

भगवद्गीता के अनुसार वास्तविक क्या है भगवान जो इच्छाओं को पूरा करता है देवी जो पोषण और रक्षा करती है पृथ्वी जो चेतन और निर्जीव का समर्थन करती है ब्राह्मण वह जो?

ज़्यादा परिणाम

श्रीमद्भागवत गीता पाठ के आधार पर बताइए हमारे आचरण का प्रभाव हमारे जीवन पर किस प्रकार पड़ता है इस पाठ से क्या क्या सीख मिलती है?

धर्म क्या है गीता के अनुसार श्लोक?

श्रीमद्भगवद्गीता के अनुसार कौन से गुण के कारण ब्रम्हाण्ड का स्थायित्व है?

श्री कृष्ण ने अर्जुन को क्या उपदेश दिया

श्री कृष्ण अर्जुन गीता उपदेश

श्रीमद्भागवत गीता उपदेश

श्री कृष्ण गीता उपदेश

श्री कृष्ण भगवत गीता ज्ञान

गीता सार इन हिंदी

भगवान कृष्ण ने अर्जुन को कुरुक्षेत्र के निकट कहां पर गीता का उपदेश दिया था

श्री कृष्ण भगवत गीता ज्ञान pdf

श्री कृष्ण उपदेश इन हिंदी

गीता उपदेश श्लोक

श्री कृष्ण गीता रहस्य

गीता उपदेश महाभारत


तो आज के लिए इतना ही उम्मीद करता हूं। कि ये पोस्ट आपको काफी ज्यादा पसंद आया होगा। तो आज के लिए इतना ही अब हम चलते है। फिर मिलेंगे नई पोस्ट के साथ तब तक हमारे blogg के अंत तक बने रहने के लिए आप सभी लोगो का दिल से धन्यवाद,,,

No comments:
Write comment