Friday, September 23, 2022

पैसे के पीछे भागने वाले के साथ मरने के बाद क्या होता है?


क्या इस कलयुग में पैसे ही सब कुछ है। अगर आप ये सवाल अपने आसपास करेंगे। तो 80% इसका उत्तर हा में ही देंगे। ये इस कलयुग का प्रभय है। कि मनुष्य अपनी मेहनत को भुलाकर केवल धन के पीछे भाग रहा है।

पैसे के पीछे भागने वाले के साथ मरने के बाद क्या होता है?


आज पैसे कमाने के कोई कुछ भी कर रहा है। तो कोई दूसरे को टाक रहा है। तो कोई चोरी कर रहा है। इतना ही नही । मानुष दुसरो के साथ अपनो का भी कत्ल कर रहा है।


इतना ही नही मानुष धन के लालच में ये भी भूल जाता है। कि मनुष्य जन्म लेते ही तो वे खाली हाथ आता है। किंतु जब उसकी मृत्यु होती है। तो उसके  साथ - साथ उसके द्वारा किये गए। पाप पुण्य है। ना कि उचित किया हुआ धन आज रुपया मानुष से ना जाने क्या - क्या कर रहा है।


आप कोई मंदिरों में सच्चे मन से ये नही कहता कि प्रभु मुझे इतना दो कि में भूखा ना राहु। और नाही अपने आवास से किसी को सोने दु। हर कोई ये सवाल करता है। कि हे प्रभु उसके पास इतना धन है। 


तो मेरे पास क्यो नही । मित्रों हम आपको बता दे । कि गरुड़ पुराण में विस्तार से बताया है। कि मनुष्य पैसे के पीछे भागते है। उनके साथ मृत्यु के बाद क्या होता है। और उनको किस प्रकार के कास्ट भोगने होता है।


नमस्कर दोस्तो मेरा नाम है। Prayag Verma ओर आप सभी का हमारे blogg में एक बार फिर देहड़ दिल से सवागत है। तो दोस्तो ओर आप सचमे भगवान श्री कृष्ण के भक्त है। तो arcitle को एक बार शेयर जरूर करे।


पैसे के पीछे भागने वाले के साथ मरने के बाद क्या होता है?

गरुड़ पुराण के उद्देश्य में भगवान विष्णु गरुड़ देव् को बताते है। कि है। गरुड़ कलयुग के बढ़ते प्रभव के कारण जो 100 का माल्या होगा। वो एक 1000 हजार का माल्या करने का कोशिश करेगा।


ओर जो मनुष्य 1000 पति हो वे लाख पति बनने का प्रयत्न करेगा। इतना ही नही लाख पति बनने के बाद भी मनुष्य अपनी दृष्टि के अंत नही होगी। और फिर वे 100000 करोड़ पति बनने का सोचेगा।


इस तरह मनुष्य की तृष्णा कभी सांत नही होगा । गरुड़ पुराण केहता है। कि अपनी तृष्णा काबू ना करने वाले व्यक्ति को नरक में जगह मिलती है। जब कि ऐसे जिन्होंने अपने पर बिजय प्राप्त हो। जिन्हें किसी चीज की एकता ना हों वैसे व्यक्ति को स्वर्ग नसीब होता है।


अतार्थ उताम की प्राप्ति होती है। आगे भगवान विष्णु गरुड़ जी को कहते है। कि है। पक्षी राज कलयुग में मनुष्य इतना धन के पीछे भागेगा । उसको मिर्त्यु के पचाहत उतना ही कास्ट भोगना पड़ेगा।


पैसे के पीछे भागने वाले के साथ मरने के बाद क्या होता है?

गरुड़ पुराण के उपाध्यक्ष में लिखा गया है। कि कलयुग में जैसे - जैसे धर्म घटता जाएगा। वैसे - वैसे मनुष्य के लिए धन का महत्व बढ़ता जाएगा। और एक समय ऐसा आएगा।


मनुष्य ईश्वर को भूल जाएगा। किंतु ये भी सत्य है। कि जो मनुष्य के मार्ग पर रहकर धन कमाएगा। ओर अपने परिवार जनों के साथ अपने आसपास लोगो की भी सेवा करेगा।


ये मिर्त्यु के पहचात उत्तम लोक की प्राप्ति होगी। इसालिए दोस्तो हमारी सलाह यही है। कि इसको कलयुग में मनुष्य को उतना जागृत करना चाहिए। जिससे ना तो भूखा रह सके। ना ही अपने आसपास के लोगो को भूखा रहने दे।


आशा करता हूं। कि आपको ये हमारी arctile पसन्द आई होगी। अगर पसन्द आई है। तो पोस्ट को शेयर कर दीजिए।


वे हमारे blogg के अंत तक बने रहने के लिए आप सभी लोगों का दिल से धन्यवाद,,



No comments:
Write comment