Thursday, February 2, 2023

कलयुग में लोगो का कल्याण कैसे होगा । कलयुग में कैसे होगा कल्याण? । मनुष्य का कल्याण कैसे होगा?


मित्रों यह घोर कलयुग चल रहा है जहां हर व्यक्ति दुखी और चिंतित है, परंतु अपने कष्टों को दूर करने के लिए ही इस घोर कलयुग में हम भगवान को कैसे याद कर सकते हैं। कैसे प्राप्त कर सकते है। जिसका उत्तर भगवान ने हमें अपने धर्म ग्रंथों में दिया है तो चलिए जानते हैं आज के इस पोस्ट के माध्यम से 

कलयुग में लोगो का कल्याण कैसे होगा । कलयुग में कैसे होगा कल्याण? । मनुष्य का कल्याण कैसे होगा?

कलयुग में लोगो का कल्याण कैसे होगा । कलयुग में कैसे होगा कल्याण? । मनुष्य का कल्याण कैसे होगा?

जैसा कि रामायण में भी उल्लेखनीय है कि कलयुग केवल नाम अधारा सुमिर सुमिर नर उतरीं पारा । इसका भावार्थ है कि कलयुग में केवल भगवान के नाम का ही आधार है। इसी संदर्भ में एक और बात शास्त्रों में कही गयी है। फ़ोटो


अर्थात एकमात्र हरि का नाम ही कलयुग में भगवान प्राप्ति का उपाय है। तो हमें हरि का नाम किस रूप में लेना है, यह भी शास्त्रों में उल्लेख किया गया है जो कुछ इस प्रकार है। हरे कृष्णा, हरे कृष्णा कृष्णा कृष्णा हरे हरे हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे कृष्ण इस मंत्र का प्रचार चैतन्य महाप्रभु ने किया था जो स्वयं कृष्ण का ही रूप है और 500 वर्ष पूर्व धरती पर भगवान के भक्तों के रूप में आए थे। 


चैतन्य महाप्रभु ने इस मंत्र का जाप ही भगवान को प्राप्त करने का एकमात्र उपाय बताया था। यह एक ऐसा मंत्र है जिसमें सभी मंत्रों का समावेश है। उनका कहना था कि भगवान के नाम से प्रबल इस कलयुग में कुछ भी नहीं है। इसलिए कहा जाता है। कलयुग में भगवान को पाना आसान है। जो फल सतयुग में 10 वर्ष तपस्या ब्रह्माचारी और जब आदि करने से मिलता था उसे मनुष्यता देतता युग में 1 वर्ष वाली द्वापर युग में एक मास में। और कलयुग में केवल 1 दिन और रात में ही प्राप्त कर सकता है। 


इसी संदर्भ में श्रीमद भगवतम ने आज आने ब्राह्मण ब्राह्मण की कथा है, जिसने सतयुग में घोर पाप किया था। विवाहित होने पर भी वह वेश्या के साथ रहा। उस वेसिया  से अजामिल को एक पुत्र भी प्राप्त हुआ जिसका नाम नारायण रखा गया है। 


जब मृत्यु के समय अपने पुत्र को पुकारा तो स्वयं नारायण प्रकट हो गए हैं। इसी प्रकार द्वापर युग में द्रौपदी वस्ञहरण के समय रोते-रोते सभी से सहायता की भीख मांगी थी। किंतु किसी ने उनकी सहायता नहीं की। तब अंत मे उन्होंने श्रीकृष्ण को पुकारा भगवान श्रीकृष्ण ने द्रोपति की  लजा बचाई थी। 


तो दोस्तो जो दिल से भगवान को याद करता है। वे निश्चित ही भगवान को प्राप्त कर लेता है। आशा करता हूं कि आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आई होगी। अगर पसंद आई है तो कमेंट में एक बार लिख दीजिए जय श्री कृष्णा।


कलयुग में कैसे होगा कल्याण?

घोर कलयुग कब आएगा?

कलयुग में धर्म क्या है?

मनुष्य का कल्याण कैसे होगा?

Image of कल्याण चार्ट

कल्याण चार्ट

कलयुग के अंत की शुरुआत शनिदेव

कलयुग स्त्री

का मटका

इंडियन मटका

No comments:
Write comment