Thursday, November 10, 2022

गाँजा पीने से क्या होता है।

 दोस्तो तो फिर से स्वागत है। आपका technical prithvi में गांजा पीने से किस बात का डर है। इस समय हमारे भारत में गांजे का कुछ ज्यादा ही ट्रेन चल गया है। पूरा पूरा शरीर और किसी को नहीं बल्कि हमारे बॉलीवुड स्टार्स को जाता है।

गाँजा पीने से क्या होता है।

बॉलीवुड स्टार्स गाँजा को पोपलर कर दिया है।

गाँजा जैसी चीज को इतना पॉपुलर बना दिया है। कि क्या कहना अगर उनकी बातें तो बाद में आपको पता चल गई होंगी कि किस तरह टॉप बॉलीवुड स्टार गाँजा के केस में भयंकर तरीके से फंसे है।पर आज हम आपको यह सारी बातें बताने आए बल्कि आज मैंने आपको दोस्त prayag kumar अपनी इस पोस्ट में आपको ये बताऊंगा कि गांजा किस तरह से आपके दिमाग में जाता है। और क्या हो अगर इस इलीगल कर दिया जाए।


भारत मे सबसे ज्यादा गाँजा कहाँ पे इस्तमाल हो रहा है।

क्योंकि हमारे देश में ड्रग्स बैन होने के बावजूद पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा इस्तेमाल किए जाने वाले शहरों में मुंबई और दिल्ली का नाम आता है। चलिए पोस्ट को शुरू करते हैं लेकिन पोस्ट शुरू करने से पहले एक छोटी सी रिक्वेस्ट है पोस्ट के नीचे रेड कलर का सब्सक्राइब बटन दिख रहा होगा उस पर क्लिक करके सब्सक्राइब करें।


दोस्तों हमारे भारत में कई सालों से गांजा फूंका जा रहा है।गांजे को गिनती पांच महान पौधों में की जाती है और 1985 से पहले इस पर कोई रोक टोक नहीं था

लेकिन राजीव गांधी अपने शासनकाल में नारकोटिक्स ड्रग्स एंड साइकॉट्रॉपिक सब्सटेंसस एक्ट लेकर आई इसके बाद गांजे को ऊपर बैंड कर दिया गांजे के बयान कई सालों से सामने आ रहे हैं।


जिसमें कई सारे लोग इसे सेहत के लिए खराब मानते हैं। तो कई मानना है कि इतना खराब नहीं है। इसी वजह से लीगल करने की मांग भी बढ़ती जा रही है।


गाँजा को कितने नामों से जाना जाता है।

और ऐसे में कई सारे देशों ने इसे लीगल कर भी दिया गांजे को कई नामों से जाना जाता है। मिरुवना माल स्टाफ आदि लेकिन यह सब तो सड़क छाप नाम है। लेकिन इसका असली नाम साइंटिफिक नाम है। मिरुवना दोस्तों एक पौधा होता है। जिसकी कई सारी वैरायटी होती है।


केनिबिस इंडिका को हिंदी में क्या कहता है।

जिसमें 2 वैरायटी काफी ज्यादा फेमस है। कई सारी वैरायटी होती है। जिसमें 2 वैरायटी काफी ज्यादा फेमस है। जीने की जनाब और कैनाबिस इंडिका कहते हैं। हिंदी में से भाँग का पौधा कहा जाता है।


केनिबिस के पौधे से किन - किन darks तैयार होता है।

केनिबिस से तीन तरह के ड्रग्स तैयार होते हैं। गांजा भांग और चरस दूसरों का केनिबिस के फूलों से तैयार किया जाता है। आमतौर पर इन फूलों को सुखाकर इसे चलाया जाता है। और फिर धुंवे को अंदर लिया जाता है।हालांकि कई लोग इसे खाते और भूलकर भी पीते हैं।


 चरस कैसे तैयार किया जाता है।

 चरस की बात करें तो दोस्तों चरस केनिबिस के पौधे से निकलने वाले रीजन से तैयार होती है।अब अगर अब्रिजिंग पूछेंगे तो मैं आपको बता दें रेजिंग पेड़ पौधों से निकलने वाले चिपचिपी मेटेरियल को कहते हैं। झा हिंदी में ऐसे लार कहा जाता है। अब आते हैं।


भाँग कैसे बनाया जाता है।

 भांग पर जिसकी पत्तियों और बीजों को पीसकर बनाया जाता है। और कई बार आप लोगों ने से बनते हुए भी देखा होगा महाशिवरात्रि और होली जैसे अवसरों पर इसका भारी मात्रा में उपयोग किया जाता है।


ईनो से साइकोएक्टिव यानी कि हमारे दिमाग में उथल-पुथल मचा देते हैं। अब आप बोलेंगे किस तरह की उथल-पुथल तो दोस्तों आपके दिमाग को तेजी से सक्रिय कर देते हैं। जिसे आपको एक अलग ही आनंद महसूस होने लगता है।


जिसे हम एक प्रकार से नशे का नाम दे सकते हैं। लेकिन अब अगर हम थोड़ा केमिस्ट्री पड़ जाए तो यह बात सामने आती है। कि जब कोई high होता है। यानी कि नशे में होता है। तो उसके शरीर में क्या होता है।


नशा करने पर क्या असर होता है शरीर का

सबसे पहले तो हम आपको बताना चाहेंगे कि केनिबिस के पौधे में एक स्पेशल तरह के केमिकल होता है। जिन्हें केनिबिस विरायड्स कहा जाता है। जिसमें Thc होता है। पीएचसी जिसका पूरा नाम डेल्टा 9 टेट्रा हाइड्रो कैनाबिनोल है।


ऐसा होता है। और दिमाग में उथल-पुथल मचा देता है दिमागी ऊर्जा को भी गलत तरीके से काम में लेना शुरू कर देते हैं। वहीं दूसरी तरफ एक उदासी वीडियो यूपीएससी का उल्टा होता है। नशा को भी दूर करता है।


आरपीएससी के नशे को कम करता है। अब इन दोनों की मात्रा ही डिसाइड करती है। कि जो रोल्स इंसान ले रहा है वह नुकसान करेगा या फिर अब आप बोलेंगे कि हमारे दिमाग के साथ खेल कैसे करते हैं। तो दोस्तों हम जो कुछ भी सोचते समझते हैं। वह अपने दिमाग के जरिए करते हैं।


ओर दिमाग की कामनी रोज केसरी करता है। अगर आप यूरोल के बारे में नहीं जानते हम आपको बता देंगे रोहन सेकसरिया होता है। जिसकी मदद से दिमाग में सूचना का आदान प्रदान होता है। इसमें किसके द्वारा यूरोप के साथ खेल खेला जाता है। 


रोहिणी सेक्टर 16 यानी कि कुछ ऐसी जगह पर हालांकि इन रिसेप्टर्स पचपेड़ी बैठ जाता है। तब तो ज्यादा कुछ नहीं होता लेकिन जब रिसेप्टर्स पर बैठता है

 तो दिमाग में हेराफेरी शुरू हो जाती है।


अब अभी सोच रहे होंगे कि हमारी बॉडी में ही नशीली चीजें एक्सेप्ट करने के लिए कहना तो नोट सिक्स चैप्टर आखिर क्यों होते हैं। तो हमारी खुद की बॉडी में भी कहने बनावट बनते हैं। जो कि किस सेक्टर हमारी बॉडी में होता है। वह कहना Remove टू रिसीव करने के लिए बनते हैं।


जैसे कि हमारे शरीर में एक कैनाबीनोएड बनता है। जिसका नाम है। पता है। जब इंसान तोड़ता है / या फिर अपनी बॉडी से उसकी क्षमता से अतिरिक्त कोई काम करता है। बॉडी को एक आनंद आता है। और फिर उसी तरह के कहने पर नोट्स बनता है। अब आप बॉडी में हो रहे हैं। सारे केमिकल लोचा तो समझ गए होंगे और भी समझ गए होंगे कि क्यों इसे बैन किया गया है।


गाँजा का नशा ज्यादा खतरनाक नही होता है।

 लेकिन हम आपको बताना चाहते हैं। कि जिन देशों में से बैंड नहीं किया गया वहां पर ऐसी क्या वजह है। सबसे पहले तो यह कि इसकी वजह से अभी तक किसी की जान जाने के बारे में कुछ पता नहीं चला इसके अलावा ऐसा माना जाता है। कि शराब से ज्यादा खतरनाक नहीं है। यानी कि शराब का नशा गांजे के नशे से ज्यादा खतरनाक होता है।


उसके साथ ही जिन देशों में लीगल तौर पर लोग इसे खरीदते हैं। वहां पर शराब और सिगरेट पीने वालों की मात्रा कम हो गई है। सबसे अहम मुद्दा यह है। कि जहां पर से खुलेआम खरीदा जाता है। वहां पर लोग पैकेट नहीं चेक कर लेते हैं। कि किस तरह के केनिबिस को कंज्यूम करने जा रहे हैं। जिसकी वजह से ज्यादा से ज्यादा लोग यह कोशिश करते हैं। कि वह ड्रेस और इंजाइटी को कम करने वाले और दिमाग के साथ छेड़छाड़ न करने वाले सीबीडी का इस्तेमाल करें।


पर हमारे देश में या फिर जिन देशों में यह इल्लीगल है। वहां पर लोगों ने खरीदे थे तो है। लेकिन उन्हें पता ही नहीं रहता कि वह किस तरह का गांजा फूंक रहे हैं। शिव जैसे वह दिमाग के साथ उथल-पुथल करने वाले बीएससी कैनाबिनोइड्स प्रयोग कर लेते हैं। यानी बाकी गांजे का सेवन करते हैं। जिसमें टीएचसी की मात्रा ज्यादा होती है।और वहीं पर चीजें खराब होना शुरू हो जाती है।


 बाकी आप गांजे के बारे में सब कुछ जान गए होंगे या फिर भी कोई सवाल है। तो पूछ लेना कमेंट बॉक्स में हम आपको बता देंगे और हां हमारे इंटरेस्टिंग पोस्ट को लगातार देखने के लिए हमारे वेबसाइट को लाइक शेयर सब्सक्राइब कर देना फिर मिलेंगे नई पोस्ट में तब तक के लिए जय हिंद जय भारत

No comments:
Write comment