Tuesday, October 4, 2022

औरत का कौन सा अंग छूने से धन की प्राप्ति होती है?

 

नमस्कार आपका स्वागत है। आचार्य चाणक्य की नीति में मनुष्य के जीवन को सुखमय बनाने के लिए काफी ज्यादा प्रभावशाली तरीकों के बारे में बताया गया है। आचार्य चाणक्य जैसे महान ज्ञानी ने इन्हीं नीतियों के कारण चंद्रगुप्त मौर्य जैसे साधारण से बालक को राजगद्दी हासिल कर आई थी। आज के इस पोस्ट में हम आपको बताएंगे। 

औरत का कौन सा अंग छूने से धन की प्राप्ति होती है?


स्त्री की वह कौन सी चीज है जो सुबह छूने मात्र से पुरुष की किस्मत पूरी तरीके से बदल सकती है जिसके बाद उस पुरुष की सफलता के दरवाजे खुलने लग जाएंगे। चाणक्य नीति में बताए गए से रहस्य जिसको जाने के बाद आप भी चौंक जाएंगे। आज की इस पोस्ट में हम जानेंगे। आचार्य चाणक्य द्वारा बताई गई ऐसी कुछ महत्वपूर्ण बातों के बारे में । 


Read more - गरीब से अमीर कैसे बनें ? 


औरत का कौन सा अंग छूने से धन की प्राप्ति होती है? 

सबसे पहले हम जान लेते हैं कि घर की दरिद्रता को दूर करने के लिए वह कौन से काम है जो घर की स्त्रियों को कभी करने नहीं चाहिए उसके बाद जानेंगे कि स्त्री का कौन सा अंग है जिसे छूने मात्र से पुरुष का भाग्य बदल जाता है। आइए जान लेते हैं। स्त्रियों को कौन से काम नहीं करने चाहिए। 


क्या करने से घर में दरिद्त्रता आती है ? 

लालच 

चाणक्य नीति के अनुशार किसी भी मनुष्य को लालच नहीं करना चाहिए और घर की महिलाओं को तो यह कतई भी सोचना नहीं चाहिए। हम सभी जानते हैं कि लालच बुरी बला है जो कि मनुष्य को धीरे धीरे नष्ट कर देती है। लालच जैसा गुण अगर स्त्री के मन में हो तो उसका परिवार समाप्त हो जाता है। 


अगर स्त्री लालच करने लग जाए तो धीरे-धीरे अज्ञानता की ओर बढ़ने लग जाती है और लालच करने के चक्कर में अपने पूरे परिवार को नष्ट कर देती है। लालच करने वाली स्त्री की पूजा से महालक्ष्मी कभी पसंद नहीं होती है। इसलिए घर की महिलाओं को कभी भी किसी भी प्रकार का लालच नहीं करना चाहिए। 


पति का अपमान 

जिस घर की स्त्री अपने पति का अपमान करती है उस घर में लक्ष्मी का वास कभी नहीं होता है। घर की महिलाओं को अपने पति के हर फैसले में उसका साथ देना चाहिए। उसका अपमान करने की कभी कोशिश नहीं करनी चाहिए क्योंकि स्त्रियों के मुख में मां सरस्वती का वास होता है और यदि स्त्री अपने मुख से पति का अपमान करती तो उसके पति के जीवन में दुर्भाग्य आता है ।


इसलिए महिलाओं को अपने पति का अपमान करने से पूर्व एक बार अवश्य सोच लेना चाहिए क्योंकि जिस घर की महिलाएं अपने पति का अपमान करती है उससे मां लक्ष्मी सदैव ही नाराज होती है। 


अहंकार 

घर की महिलाओं को कभी भी अंधकार नहीं करना चाहिए जो स्त्री अपने रूप का योग 1 का हंकार करती है। उसके घर से लक्ष्मी चली जाती है। हंकार करने से घर से सुख समृद्धि भी नष्ट हो जाती है। देखते ही देखते घर में कंगाली आ जाती है। इसलिए चाणक्य नीति के अनुसार आ हंकार को स्त्रियों का सबसे बड़ा शत्रु माना जाता है । 


अज्ञानता 

चाणक्य नीति के अनुसार घर की महिलाओं को शास्त्रों एवं पुराणों का नित्य पठन करना चाहिए। देवी देवताओं की आरती एवं मंत्रों का ज्ञान होना चाहिए क्योंकि जो स्त्री शास्त्र के अनुसार नहीं चलती है, उसके घर में दरिद्रता और लक्ष्मी का वास होता है। शास्त्रों का अध्ययन करने से स्त्रियों के मन से दुर्गुणों का नाश होता है और अपने परिवार को जोड़कर रखने का प्रयत्न करने लगती है। 


अज्ञानता के कारण परिवार नष्ट हो जाता है। महिलाएं स्वार्थी और क्रोधी स्वभाव की बनने लगती है। इसलिए घर की महिलाएं सास और ननद हो या बहु शास्त्रों का अध्ययन करके अपने मन की बुराइयों को नष्ट करना चाहिए। नहीं तो घर में छोटी-छोटी बात पर कलेश का वातावरण बनने लगता है और ऐसे घर में मां लक्ष्मी का वास कभी नहीं। 



तो ये थे कुछ कार्य जो महिलाओं को कभी करने नहीं चाहिए। अगर हिंदू पुराणों और शास्त्रों की माने तो सिर्फ को सबसे बड़ा दर्जा दिया जाता है क्योंकि वह घर की देवी स्वरूप मानी जाती है। इसलिए अपने पूरे को बनाए रखें। कठिन परिस्थिति में भी साहस और बुद्धिमता दिखाकर उस परिस्थिति से परिवार को निकालने का प्रयास भी करती है। इसलिए जो भी व्यक्ति सच्चे मन से और बिना किसी स्वार्थ की अपने घर की स्त्री  का सम्मान करता है। 


उस व्यक्ति को अपने जीवन में किसी भी तरह की समस्याओं का सामना नहीं करना पड़ता। मां लक्ष्मी स्वयं इस कार्य से प्रसन्न हो जाती हैं क्योंकि श्रीदेवी का स्वरूप होती है लेकिन हम जानते हैं कि स्त्री का कौन सा अंग है जिसे सुबह उठने के बाद स्पष्ट करने मात्र से व्यक्ति की किस्मत जाग जाती है। आपको घर परिवार बिजनेस कारोबार में किसी भी तरह की समस्याओं का सामना नहीं करना पड़ता है। 


घर की गरीबी पूर्ण रूप से दूर हो जाएगी और घर धन-धान्य से भर जाएगा या दोस्तों आपने सही सुना। अगर आप श्री के अंग को छूते हैं तो आपकी किस्मत जाग सकती है या तो कि घर में अगर गरीबी है तो वह भी पूरी तरह से नष्ट हो जाती है। आज के समय में लोग ऐसे अंधश्रद्धा क्या ढकोसला मानकर इसकी और दुर्लक्ष करते हैं लेकिन साथ में बताई गई इस बात का बहुत अधिक महत्व है। 


स्त्री के इस अंग छूने से अमीर होता है ? 

यदि कोई पुरुष नीति स्त्री के अंग को स्पष्ट करता है तो उसके जीवन से सभी प्रकार के नकारात्मकता नष्ट हो जाती है और स्त्री के आशीर्वाद से जिवन में उन्नति करता है। इसीलिए पुरुष को नित्य सुबह उठने के बाद स्त्रियों की इन चीजों के दर्शन अवश्य ही करनी चाहिए। शास्त्र के अनुसार केवल बुद्धिमान दयालु और विवेकशील पुरुषों के घर में ही पुत्री का जन्म होता है   ।


होने के बाद पुरुष को सबसे पहले अपने पुत्र के मुख्य के दर्शन अवश्य करने चाहिए। ऐसा करने मात्र से उस पर महालक्ष्मी की कृपा बरसती है। उसके पश्चात उसे अपनी माता की करनी चाहिए क्योंकि माता के चरणों में स्वर्ग माना गया है। शास्त्रों के अनुसार जो पुरुष सुबह उठने के पश्चात सर्वप्रथम अपने माता के चरणों को स्पर्श करता है और उसके बाद कार्य की शुरुआत करता है। 


उसके सभी कार्य में उसे सफलता मिलती है और तीसरी बात है। पुरुष को सुबह उठने के बाद अपनी पत्नी के हथेलियों को स्पर्श अवश्य करना चाहिए क्योंकि स्त्रियों की हथेलियों में मां लक्ष्मी का वास होता है और सुबह सुबह से स्पष्ट करने से व्यक्ति को मां लक्ष्मी का आशीर्वाद प्राप्त होता है। इसलिए सुबह उठने के बाद क्योंकि इन अंगों को स्पर्श करना बहुत ही लाभदायक माना गया है 


अब आप जान ही चुके होंगे कि स्त्री का वह कौन सा अंग है जिस को छूने मात्र से ही मनुष्य की किस्मत पूरी तरह बदल जाती है। अगर यह ये जानकारी आपको अच्छा लगा होगा । तो अपने दोस्तो के पास शेयर जरूर करे । हमारे ब्लॉग के अंत तक बने रहने के लिए आप सभी लोगो को दिल से धन्यवाद ,,,,,,,,,,,



No comments:
Write comment