Saturday, October 1, 2022

मनुष्य का भाग्य कब लिखा जाता है

 

आचार्य चाणक्य ने नीति शास्त्र में कई ऐसी चीजें बताएं हैं जिनका पालन करके व्यक्ति सफल इंसान बनने के साथ समाज में मान सम्मान पा सकता है। चणाक ने अपने नीतियों में कई ऐसी बातें उजागर की है जिन्हें काफी लोग मानना पसंद नहीं करते हैं। आचार्य चाणक्य ने अपनी नीतियों को बहुत ही सोच समझकर लिखा है। इन नीतियों से मानव जीवन को सही दिशा मिलती है। 

मनुष्य का भाग्य कब लिखा जाता है


आचार्य चाणक्य ने मनुष्य के जीवन संबंधी कई बातों का उजागर किया है। इसी तरह उन्होंने एक नीति में बताया है कि मनुष्य के जन्म लेने से पहले ही कुछ चीजें उसके भाग्य में लिख दी जाती है। ऐसे में इन 5 चीजों से वह चाह कर भी छुटकारा नहीं पा सकता है तो क्या है बे आइए जानते हैं । 


मनुष्य का भाग्य कब लिखा जाता है 

उम्र

आचार्य चाणक्य ने अपने इस श्लोक के द्वारा बताने की कोशिश की है कि जब कोई मनुष्य मां के गर्भ में होता है तभी उसके भाग्य का निर्धारण हो जाता है। जन्म से पहले ही उसकी उम्र के बारे में लिख दिया जाता है। इसलिए कहा जाता है कि हर किसी की मृत्यु का समय पहले से ही तय होता है। 


विद्या 

नीति शास्त्र के मुताबिक व्यक्ति कितनी विद्या यानी पढ़ाई करेगा। इसके बारे में भी भाग्य में भी लिख दिया जाता है। इसलिए कई बार हम चाह कर भी कुछ चीजों को हासिल नहीं कर पाते हैं। अगर आप अपने भाग्य से आगे विद्या प्राप्त करने की चाह रखते हैं तो वह किसी न किसी तरह आपको नहीं मिल पाती है। वह बात अलग है कि कई बार आपकी इच्छा शक्ति इतनी प्रबल होती हैं कि ईश्वर आपके कठोर परिश्रम से अगर प्रसन्न हो जाते हैं। आपको दे देते हैं। 


इतना ही नहीं आप कितने साल तक जिएंगे और कब मृत्यु होगी। इस बारे में पहले ही भाग्य में लिख दिया जाता है। चाणक्य के मुताबिक मां के गर्भ व्यक्ति की आयु लिख दी जाती है कि वह कितनी उम्र तक जीवित रहेगा और कब मौत के आगोश में समा जाएगा। 


चाणक्य के मुताबिक आपका जी आपके पिछले जन्म के कर्मों पर निर्भर करता है। इसलिए गर्भ के समय आपकी तकदीर लिख दी जाती है। इसलिए हर व्यक्ति को अपने कर्मों की हिसाब से सुख भोगना पड़ता है। 


ऐसे में आप चाहे जितनी कोशिश कर ले अपने भाग्य से ज्यादा या कम नहीं पा सकते हैं। घर आपको कितना धन मिलेगा। इस बारे में भी आपके भाग्य में लिखा होता है। इसलिए इंसान को अपने जीवन को बहुत ही सदाचार होकर जीना चाहिए, जिससे अगले जन्म में आप सुख समृद्धि के। समय को व्यतीत कर पाए। 


तो दोस्तो उम्मीद करता हूं कि ये जानकारी आपको अच्छा लगा होगा । हमारे ब्लाग के साथ अंत तक बने रहने के लिए आप सभी लोगो को दिल से धन्यवाद ,,,,,,



No comments:
Write comment