Friday, October 21, 2022

धोखेबाज पति को कैसे पहचाने | धोखेबाज पति को कैसे सबक सिखाएं


मित्रों पति पत्नी के रिश्ते को बाकी सभी रिश्तो से अलग माना गया है। इस रिश्ते में भरपूर प्रेम होता है तो कभी-कभी तकरार एक आदर्श पत्नी वही है जो अपने घर को हमेशा जोड़कर रखे। वहीं दूसरी तरफ आदर्श पति हमेशा अपनी पत्नी को साथ लेकर चलता है और हमेशा उसका सम्मान करता है। 

धोखेबाज पति को कैसे पहचाने | धोखेबाज पति को कैसे सबक सिखाएं

लेकिन हमारे समाज में ऐसे पुरुष भी हैं जो न सिर्फ पत्नी का तिरस्कार करते हैं बल्कि उन पर अत्याचार भी करते हैं और ऐसे पुरुष के साथ पत्नी कभी पत्नी खुश नही रह पाती है। आज के इस पोस्ट में मैं आपको महा ज्ञानी विदुर द्वारा बताए गए पुरुषों के कुछ ऐसे लक्षणों के बारे में बताऊंगा जिनके साथ जीवन बिताना महिलाओं के लिए काफी कष्टकारी होता है। 


धोखेबाज पति को कैसे पहचाने | धोखेबाज पति को कैसे सबक सिखाएं

इसलिए ऐसे पुरुषों को तुरंत त्याग देना चाहिए। मित्रों पति का अत्याचार सहने वाली स्त्री का जीवन वन में लगी आग के बीच फंसी हिरनी की तरह हो जाता है। आपकी दूसरी तरफ शेर ओर समाज बैठा रहता है जो उसे खा जाना चाहता है और इस समाज रूपी शेर से बचने के लिए हिरनी अर्थात् पत्नी हमेशा आग के बीच चलती रहती है। 


Read more :- Ladki ka whatsapp Number ?


पति पत्नी को कैसे रहना चाहिए

ऐसे में महिलाओं के लिए जरूरी है कि वह विवाह से पूर्व महान ज्ञानी विदुर द्वारा बताए गए ऐसी पुरुषों के लक्षण जान लें । जिनके साथ विवाह करने पर उन्हें हमेशा कष्ट की ही प्राप्त होने वाली है। मित्रों दो व्यक्ति एक साथ तभी सुखी रह सकते हैं। जब उनके मन से मन बातों से बातें और बुद्धि से बुद्धि मिलती है। 


जब पति पत्नी एक दूसरे की विपरीत सोचते हैं तो वह साथ में कभी सुखी नहीं रह सकते। ऐसे में स्त्री को ऐसे ही पुरुष से विवाह करना चाहिए जिससे उसके विचार मिलते हैं। 


पत्नी में अच्छाई में बुराई देखने वाला पति ? 

अच्छाई में बुराई देखने वाला पति मित्रों महा ज्ञानी विदुर के अनुसार ऐसा पुरुष जो हमेशा अच्छाई में भी बुराई ढूंढता हो । उससे समाज में कोई भी खुश नहीं रह सकता। फिर चाहे उसकी पति ही क्यों ना हो विदुर कहते हैं कि पत्नी चाहे पति को खुश रखने की कितनी ही कोशिश क्यों ना करें ।


लेकिन ऐसे पति को अपनी पत्नी में 100 अच्छाइयां होने के बाद भी सिर्फ बुराइयां ही नजर आती हैं। ऐसे पुरुष अपनी पत्नी का तिरस्कार करने में और पत्नी को बुरा भला कहने में कोई भी मौका नहीं छोड़ते और ऐसे पुरुष के साथ पत्नी कभी भी खुश नहीं रह सकती है। 


भले ही पत्नी कितना ही स्वादिष्ट भोजन क्यों ना बना ले । भले अपने पति का कितना भी ख्याल क्यों ना रखी । लेकिन ऐसा पति अपनी पत्नी में बुराई ढूंढ ही लेता है और उसे बार-बार कटु वचन कह कर तकलीफ पहुंचाता है। जिस कारण पत्नी पति के साथ कभी भी खुश नहीं रह पाती। 


पत्नी के उपहास उड़ाने वाले पति ? 

उपहास उड़ाने वाला विदुर के अनुसार मूर्खों का सबसे बड़ा दुर्गुण यह है कि वह हमेशा दूसरों का उपहास उड़ाते हैं जिस प्रकार सम्मान किया जाता है। वैसे ही महिलाएं भी सम्मान की हकदार है और जो पुरुष अपनी पत्नी को सम्मान नहीं देता है और बात बात पर उसका उपहास उड़ाता है। 


ऐसे पति से उसकी पत्नी हमेशा दुखी ही रहती है। विदुर नीति में बताया गया है कि स्त्रियों को अपनी सुंदरता की अच्छाई सुनना सबसे अधिक प्रिय होता है और यही कारण है कि स्त्रियों को श्रंगार करना सबसे प्रिय होता है जो पुरुष अपनी पत्नी के सुंदरता का उपहास उड़ाते हैं। उसे पत्नी हमेशा दुखी ही रहती है। फिर चाहे उनका पति कितना ही अच्छा क्यों ना हो। 


पत्नी पर पति कड़वा बोलने वाले ? 

कड़वा बोलने वाला मित्रों हर रिश्ते में नोकझोंक होना तो आम बात है और पति पत्नी के रिश्ते में भी मामूली झगड़े होते ही रहते हैं। लेकिन महात्मा विदुर के अनुसार क्रोध में आकर जो पति अपनी पत्नी से कड़वे वचन बोल देता है । वह पुरुष स्त्री को खुश नहीं रख सकता है। 


हमारे शास्त्रों में भी क्रोध पर नियंत्रण रखें के बारे में बताया गया है। ऐसा इसलिए क्योंकि क्रोधित व्यक्ति का अपनी इंद्रियों पर काबू नहीं रह पाता है। और क्रोध में ना चाहते हुए भी वह सामने वाले से कटु वचन कह जाता है। 


ऐसे में हमें हमेशा क्रोध से बचना चाहिए और विदुर नीति के अनुसार जो पुरुष झगड़े के बीच पति के माता-पिता या फिर उसके परिवार के बारे में गलत बोलता है। ऐसे पुरुष स्त्री को कभी खुश नहीं रख सकते हैं क्योंकि जिस प्रकार एक पुरुष के लिए उसका परिवार सबसे पहले आता है । 


वैसे ही स्त्रियों के लिए भी उनका परिवार से भी होता है और अगर कोई पुरुष स्त्री के परिवार के बारे में कटु शब्द बोलता है तो तो इस्त्री ऐसे पुरुष को कभी माफ नहीं करती है। ऐसे में भला यही है कि पुरुष झगड़े के बीच कभी स्त्री के परिवार को ना लेकर आए । 


अत्याचारी पुरुष 

मित्रों आज भी हमारे समाज में ऐसे पुरुषों है  जो महिलाओं पर अत्याचार करना सम्मान की बात समझते हैं । लेकिन हमारे हिंदू धर्म में ऐसे पुरुषों को नपुंसक की श्रेणी में रखा गया है। ऐसे पुरुष जो मदिरापान करते हैं जो स्त्रियों के साथ मारपीट करते हैं । उन्हें भगवान की क्रोध का सामना करना पड़ता है। 


यही नहीं ऐसे पुरुष को नरक में भी जगह नही मिलती है । इसलिए विदुर यह कहते हैं कि अत्याचारी पुरुष के साथ रहने से अच्छा यह है कि स्त्री ऐसे पुरुष तक तुरंत त्याग कर दें क्योंकि ऐसे पुरुष के साथ रहने से स्त्री को हमेशा कष्ट उठाने पड़ते हैं । 


तो मित्रो आज की इस पोस्ट में बस इतना ही से अंत तक पढ़ने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद और अगर आपको हमारी यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो इसे अपने तक सीमित ना रखें बल्कि अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें और हां, अगर आप हमारे website पर नए है। तक ऐसी ही आध्यात्मिक कथाओं के लिए अभी सब्सक्राइब कर ले।


पति को कैसे सबक सिखाएं? । पति धोखा क्यों देता है? । धोखेबाज पति को कैसे सबक सिखाएं । अच्छे पति के लक्षण । पति-पत्नी की दूरी । पति पत्नी को कैसे रहना चाहिए । पति की बेवफाई । पति-पत्नी के रिश्ते कैसे सुधारें । धोखेबाज पति के लिए । पति बात नहीं सुनता है । पति पत्नी से दूर क्यों रहता है? । जब पति आप पर ध्यान नहीं देता कि क्या करना है । जीवनसाथी धोखा दे तो क्या करें । पति के पास पत्नी के नाम का क्या होता है । धोखेबाज जीवनसाथी

No comments:
Write comment